moral story- एकाग्रता की ताकत

story- एकाग्रता की ताकत

दोस्तों ! hindi moral stories की श्रृंखला में आज आपके लिए प्रस्तुत है story- एकाग्रता की ताकत। आज के हड़बड़ी भरे, अस्थिर जीवन पर चोट करती है। इस hindi story के माध्यम से आप सीखेंगे कि एकाग्रचित्त होकर किये गए कार्य में सफलता निश्चित है।

moral story- एकाग्रता की ताकत

इंग्लैंड की राजपरम्परा में अनेक यशस्वी और प्रतिभाशाली शासक हुए हैं। जिनके नाम आज भी आदर और सम्मान के साथ लिए जातेहैं। उन्हीं में से एक राजा अल्फ्रेड का नाम भी इंग्लैंड के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में अंकित है।

moral story- एकाग्रता की ताकत
moral story- एकाग्रता की ताकत

अल्फ्रेड का शासनकाल जनता की भलाई के लिए किए गए कार्यों के लिए जाना जाता है। परंतु उनका जीवन प्रारम्भ से ही जनप्रिय नहीं था। उनके स्वभाव में एक बड़ा दोष था कि वे अस्थिरचित्त थे।

किसी कार्य को लगन और एकाग्रता से करना उनका स्वभाव नहीं था। शासकीय कार्यों में भी वे कभी एक निर्णय लेते तो कभी दूसरा। एकाग्रता की कमी के कारण प्रायः अपने पूर्व के निर्णय को ही वे बार बार बदलते रहते।

जिसके कारण राजकार्य में संलग्न कर्मचारियों में भ्रम और अनिश्चितता की स्थिति बनी रहती थी। जिसका असर शासन व्यवस्था पर पड़ रहा था। कर्मचारी अपने अनुसार नए नए आदेश जारी करते और कहते कि वे राजा अल्फ्रेड द्वारा जारी किए गए हैं।

स्वाभाविक चंचलता के कारण वे भोग विलास में डूब गए। जिसका फायदा उठाकर उनके विरोधियों ने उनसे राजसिंहासन छीन लिया। विरोधियों से बचने के लिए अल्फ्रेड को राजधानी से भागना पड़ा।

राजधानी से भागकर अल्फ्रेड ने एक सीमावर्ती गांव में एक किसान के यहां नौकरी कर ली। यहां उसे भोजन और रहने का ठिकाना मिल गया। साथ ही अच्छी बात यह थी कि वहां कोई उसे पहचानता नहीं था।

किसान ने उसे घरेलू काम में लगा दिया। जहां उसे बर्तन धोने, खाना पकाने में मदद करनी पड़ती थी। वह काम करता और अधिकतर समय अपने पुराने दिनों के सपनों में खोया रहता।

एक बार किसान की पत्नी चूल्हे पर दाल चढ़ाकर किसी काम से बाहर जाने लगी। जाते हुए उसने अल्फ्रेड से कहा कि देखना डाल जलने न पाए। लेकिन उसके जाते ही एडोल्फ अपने खयालों में गुम हो गया।

किसान की पत्नी जब वापस लौटी तो उसने देखा कि दाल अब भी चूल्हे पर चढ़ी हुई है और पूरी तरह जल चुकी है। साथ ही उसने देखा कि एडोल्फ एक तरफ बैठा खयालों में गुम है। उसे बहुत गुस्सा आया।

उसने गुस्से में कहा, “लड़के तू भी राजा एडोल्फ की ही तरह है। जैसे वह भोग विलास और ख्वाबों के कारण अपना राज्य गवां बैठा और मारा-मारा घूमता है। वैसे ही तू भी चाहता है।”

किसान की पत्नी की ये बातें सुनकर एडोल्फ को झटका लगा। उसके सामने अपना पूरा पिछला जीवन घूम गया। उसने उसी समय निश्चय किया कि अब वह सपनों में नहीं जियेगा। जो भी काम करेगा पूरी एकाग्रता के साथ करेगा।

उसने फिर अपने विश्वासपात्र लोगों को एकत्र किया और एकाग्रचित होकर योजना बनाकर फिर से अपना राज्य प्राप्त किया। इस बार उसने योग्य शासक के रूप में वो सारे कार्य किये। जिनके लिए उसका कार्यकाल इंग्लैंड के इतिहास में अमर हो गया।

सीख- Moral

यह moral story शिक्षा देती है कि जीवन के हर क्षेत्र में सफलता के लिए एकाग्रता बहुत जरूरी है। अस्थिरचित्त से सही फैसले नहीं लिए जा सकते।

ये भी पढ़ें-

80+ new moral stories in hindi

15 short stories in hindi

5 short stories for kids in hindi

हितोपदेश की दो कहानियां

10 बेस्ट प्रेरक प्रसंग

कालिदास की कहानी

नीम करौली बाबा की कहानी

हिन्दू धर्म, व्रत, पूजा-पाठ, दर्शन, इतिहास, प्रेरणादायक कहानियां, प्रेरक प्रसंग, प्रेरक कविताएँ, सुविचार, भारत के संत, हिंदी भाषा ज्ञान आदि विषयों पर नई पोस्ट का नोटिफिकेशन प्राप्त करने के लिए नीचे बाई ओर बने बेल के निशान को दबाकर हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब जरूर करें। आप सब्सक्राइबर बॉक्स में अपना ईमेल लिखकर भी सबस्क्राइब कर सकते हैं।

ये story- एकाग्रता की ताकत आपको कैसी लगी ? कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top